योगी के शहर में खनन माफियाओं की दबंगई, माफिया की गाड़ी से दब कर एक मासूम की मौत

गोरखपुर: प्रदेश में भले ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के तेज तर्रार रवैये की तूती बोल रही हो, लेकिन उनके अपने ही शहर में किस कदर खनन माफिया हावी है उसकी बानगी एक बार देखने है। मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ के सख्त निर्देश के बाद भी गोरखपुर मे खनन माफियाओं के हौसले बुलंद है। खोराबार के गाय घाट के बजरंगी यादव भी उसमे से एक है। बीती रात जिसकी खनन के जूनून की भेंट चढ़ गया एक दो वर्षीय बच्चा।

बता दें कि खोराबार क्षेत्र के गाय घाट बुजुर्ग गाँव मे स्थानीय निवासी रामकरन यादव के पुत्र अरविंद यादव बैंगलौर मे पेंट पालिस का काम करते है और उनके दो बच्चों मे अंश छोटा था। बीती देर रात गांव के ही खनन माफिया बजरंगी यादव के ट्रेक्टर टाली से एक उसी गाँव के 2 वर्षीय अंश यादव की दब कर मौत हो गई और ट्रेक्टर चालक गाड़ी लेकर फरार हो गया।

इतना ही नही मासूम बच्चे की मौत के बाद भी सुचना पाकर उसकी सम्वेदना नही पसीजी बल्कि उलटे उसने (खनन माफिया बजरंगी यादव ने ) दबंगई दिखाते हुए मौके पर पहुंचकर मृतक अंश के परिवार से उस 2 साल के बच्चे की जान की कीमत 5 लाख लगा डाली। लेकिन बच्चा खो चुके परिवार वालों ने खनन माफिया से रुपये लेने से मना कर दिया।

खनन माफिया बजरंगी यादव का डर इस कदर गाँव मे है कि कोई भी गाँव वाला इसके खिलाफ आवाज नहीं उठा पाता है। जिनका उनके गाँव मे ही कई जगहों पर खनन किए हुए बालू के स्टोर है । जहां से ये बालू का अवैध काला धंधा करता है।स्थानीय लोगों के मुताबिक इसके पहले भी इसकी गाड़ी से कई एक्सीडेंट हो चुके है और खोराबार थाने की पुलिस भी इनके इशारे पर चलती है।

बड़ा सवाल तो यह है कि मुख्यमंत्री के आदेश के बाद भी ये खनन का अवैध काम कैसे और किसके दिशा निर्देश पर हो रहा है।