Uncategorized

कई संप्रभु कोष एनआईआईएफ में शामिल होने के इच्छुक : जेटली

Finance-Minister-Arun-Jaitlनई दिल्ली: राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष (एनआईआईएफ) की एक बैठक के बाद केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को कहा कि कोष के लिए 40 हजार करोड़ रुपये की शुरुआती पूंजी जुटाने के लिए कई संप्रभु और पेंशन कोष के निवेश प्रस्तावों पर विचार किया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि एनआईआईएफ शासकीय परिषद की बैठक अगले साल मार्च में फिर होगी, जिसमें इस दिशा में हुई प्रगति पर विचार किया जाएगा। उन्होंने कहा, “पूरी दुनिया से कई संप्रभु और पेंशन कोषों ने एनआईआईएफ में शामिल होने में रुचि दिखाई है।”
एनआईआईएफ के शासकीय परिषद की बैठक के बाद जेटली ने कहा, “संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), ब्रिटेन और रूस के संप्रभु कोष के प्रस्ताव पर हुई प्रगति पर विशेष तौर पर विचार किया गया। साथ ही अन्य देशों के अभिरुचि पत्रों पर भी विचार किया गया।”
जेटली एनआईआईएफ के शासकीय परिषद के अध्यक्ष भी हैं।
मंत्री ने कहा, “हमारी बैठक मार्च में फिर होगी, जिसमें निवेश की इच्छा रखने वाले कोषों पर हुई प्रगति पर विचार किया जाएगा।”
कोष के लिए शुरुआती पूंजी के तौर पर सरकार 20 हजार करोड़ रुपये का योगदान करेगी। शेष 20 हजार करोड़ रुपये निजी क्षेत्र से जुटाए जाएंगे।
केंद्रीय मंत्रिमंडल ने जुलाई में 20,000 करोड़ रुपये की शुरुआती पूंजी के साथ अवसंरचना परियोजनाओं के विकास के लिए इस एनआईआईएफ की स्थापना को मंजूरी दी थी।
जेटली ने साथ ही कहा कि कोष के अंतर्गत एक निवेश प्रबंधन कंपनी के लिए मुख्य कार्यकारी अधिकारी के चुनाव पर काम चल रहा है। इसके लिए देश-विदेश में विज्ञापन प्रकाशित किए गए हैं। यह प्रक्रिया अगले कुछ सप्ताहों में पूरी हो सकती है।
छह सदस्यों वाले शासकीय परिषद ने इंडिया इंफ्रास्ट्रक्च र फायनेंस कंपनी को छह महीने के लिए एनआईआईएफ को निवेश परामर्श नियुक्त किया है। साथ ही आईडीबीआई कैपिटल मार्केट सर्विसेज को एक साल के लिए एनआईआईएफ ट्रस्टी लिमिटेड का परामर्श नियुक्त किया है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *