Uncategorized

समलैंगिकता मामले की सुनवाई संवैधानिक पीठ करेगी

A-gay-activistनई दिल्ली: सर्वोच्च न्यायालय के पांच न्यायाधीशों वाली एक संवैधानिक पीठ गैर सरकारी संस्था (एनजीओ) नाज फाउंडेशन और अन्य की ओर से दाखिल उस विमोचक (क्यूरेटिव) याचिका पर सुनवाई करेगी, जिसमें उन्होंने समलैंगिक संबंधों को अपराध घोषित करने वाली आईपीसी की धारा 377 की वैधता पर पुनर्विचार की मांग की है।
मुख्य न्यायाधीश न्यायामूर्ति टी.एस. ठाकुर की अध्यक्षता वाली सर्वोच्च न्यायालय की पीठ ने विमोचक याचिका को पांच न्यायाधीशों वाली पीठ के पास भेज दिया है।
यह कदम वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल की ओर से यह कहे जाने के बाद उठाया गया है कि इस मामले से दूरगामी संवैधानिक महत्व का सवाल जुड़ा हुआ है और इसलिए इसकी सुनवाई पांच न्यायाधीशों वाली पीठ को करनी चाहिए।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *