Uncategorized

सामने आए पोप जान पाल द्वितीय के 'अंतरंग' पत्र

Popeलंदन: बीबीसी ने समोवार को बताया कि पोप जान पाल द्वितीय के एक शादीशुदा महिला से करीबी रिश्तों का खुलासा करने वाले पत्र और तस्वीरें 30 साल के बाद सार्वजनिक हुए हैं।
पोलैंड में पैदा हुई अमेरिकी विचारक अन्ना-टेरेसा ताइमेनिका और पोप जान पाल द्वितीय के बीच के ये पत्र पोलैंड की नेशनल लाइब्रेरी में लोगों की पहुंच से दूर रखे गए थे।
ये दस्तावेज पोप जान पाल द्वितीय की शख्सियत के एक ऐसे पहलू पर रोशनी डालते हैं जिसके बारे में लोगों को जानकारी नहीं है। पोप जान पाल द्वितीय का निधन 2005 में हुआ था। वह 26 साल पोप के पद पर रहे। 2014 में उन्हें संत घोषित किया गया था।
लेकिन, किसी भी दस्तावेज, तस्वीर या पत्र से इस बात का कोई संकेत नहीं मिलता कि पोप ने ब्रह्मचर्य का अपना व्रत तोड़ा था।
दोनों के बीच की दोस्ती 1973 में शुरू हुई थी। ताइमेनिका ने भावी पोप कार्डिनल कारोल वोताइला से मुलाकात की थी। वोताइला उस वक्त कारकोव के आर्कबिशप थे। 50 वर्षीय ताइमेनिका ने वोताइला की दर्शनशास्त्र पर लिखी किताब के सिलसिले में अमेरिका से पोलैंड आकर उनसे मुलाकात की थी।
इसके बाद, दोनों लोगों के बीच पत्र व्यवहार का सिलसिला चल पड़ा। शुरू में कार्डिनाल के पत्र औपचारिक थे। लेकिन, दोस्ती बढ़ने के साथ इन पत्रों की अंतरंगता बढ़ती गई।
दोनों ने कार्डिनल की किताब ‘द एक्टिंग पर्सन’ को और विस्तारित करने का फैसला किया था।
सार्वजनिक हुई तस्वीरों में वोताइला को बेहद आराम की मुद्रा में देखा जा सकता है। वह ताइमेनिका को अपने साथ अवकाश मनाने के लिए आमंत्रित करते थे।
एक तस्वीर में ताइमेनिका को वेटिकन जाते हुए दिखाया गया है।
पत्र से यह भी खुलासा हुआ है कि कार्डिनाल वाइलोता ने ताइमेनिका को अपनी सबसे बेशकीमती चीजों में शामिल एक नेकलेस (स्कैपुलर) दिया था। यह धार्मिक नेकलेस कंधों के इर्द-गिर्द पहना जाता है।
10 सितंबर 1976 को अपने पत्र में वाइलोता ने लिखा था, “पहले से ही मैं बीते साल के इन शब्दों का अर्थ तलाश रहा हूं-मैं आपका हूं। और, अंतत: पोलैंड छोड़ने से पहले मुझे जवाब मिला-एक स्कैपुलर। वह पहलू जिसमें मैं आपको हर जगह-हर स्थिति में महसूस करता हूं, जब आप पास होती हैं तब भी और जब दूर होती हैं तब भी।”

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *