अब पूर्वांचल के युवाओं को नहीं जाना होगा नोएडा, बेंगलुरु; गीडा में जल्द बनेगा आईटी पार्क, 20 हजार लोगों को मिलेगा रोजगार

गोरखपुर: गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण( गीडा) में बरसों से प्रस्तावित आईटी पार्क के सपने पूरे होने वाले हैं। इसके लिए गीडा में आवंटित भूमि उत्तर प्रदेश इलेक्ट्रॉनिक कारपोरेशन लिमिटेड को हस्तांतरित करने का आदेश प्रदेश सरकार ने जारी कर दिया है। पूर्वांचल में आईटी पार्क के खुलने से जनपद में भी ग्रामीण बीपीओ और स्टार्टअप शुरू हो जाएंगे। प्रोजेक्ट शुरू होने से आसपास के लगभग 20 हजार लोगों को रोजगार मिल सकेगा।

इस संबंध में उत्तर प्रदेश सरकार के विशेष सचिव जी एस नवीन कुमार का आदेश गुरुवार को जिले के जिम्मेदार अफसरों के पास पहुंच गया। उन्होंने गीडा सेक्टर के प्लाट संख्या बीएल 4 और 5 के 145 00 वर्ग मीटर( कुल 3.58 एकड़) जमीन को आईटी पार्क के रूप में विकसित करने के लिए यूपीएलसी को हस्तांतरित करने का गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण को आदेश दिया है, साथ ही उन्होंने इसकी रिपोर्ट भी मांगी है भी है।

जानकारों की बातों पर गौर किया जाए तो पार्क के विकास पर तकरीबन 15 करोड़ रुपए की लागत आएगी। एस टी पी आई इंफ्रास्ट्रक्चर की स्थापना और आईटी उद्योग के लिए इंक्यूबेशन सेंटर भी चिन्हित करेगा। आईटी पार्क बनने से इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग, मैन्युफैक्चरिंग, बैंकिंग, कॉल सेंटर जैसे क्षेत्रों में फायदा होगा। इसके साथ ही स्टार्टअप पर भी बल दिया जाएगा। जोकि युवाओं पर फोकस होगा।

आईटी पार्क युवाओं के लिए हाई स्पीड डाटा कम्युनिकेशन, वैल्यू एडेड सर्विसेज,कंसल्टेंसी सर्विसेज जैसी सुविधाएं भी देगा। पूर्वांचल में भी आईटी क्षेत्र में रोजगार पैदा होने की उम्मीद जगी है। इसमें 20 फीसदी हिस्सा केवल स्टार्ट अप को दिया गया है।

एसटीपीआई द्वारा आईटी पार्क में स्थान देते वक्त यूपी के मूल निवासियों को 25 परिषद आरक्षण भी दिए जाने की संभावना है। इसके होने से तकनीकी हुनरमंद युवाओं का पलायन भी रुक सकेगा। साथ ही अब बड़ी कंपनियों का रुख गोरखपुर की आईटी पार्क की तरफ होगा। माना जा रहा है कि पार्क मुख्यमंत्री की प्राथमिकता में है और इसके चलते अफसर भी आईटी पार्क को लेकर बेहद गंभीर हैं।

Martia Jewels
Martia Jewels
Martia Jewels