उत्तर प्रदेश

राज्यसभा चुनाव 2018: बसपा के 17 विधायकों ने अपने प्रत्याशी के पक्ष में किया वोट

राज्यसभा चुनाव 2018: बसपा के 17 विधायकों ने अपने प्रत्याशी के पक्ष में किया वोट

लखनऊ: प्रदेश में राज्यसभा के लिए 10 सीटों का चुनाव आज शुरू हो गया है। 9 सीटों पर तो चुनाव आसान दिख रहे हैं लेकिन एक सीट पर जबरदस्त लड़ाई देखने को मिल रही है। 10वी सीट के लिए भाजपा समर्थित निर्दलीय अनिल अग्रवाल और बसपा के प्रत्याशी भीमराव आंबेडकर के बीच है। जानकारी के अनुसार बसपा के सभी विधायक ने अपने प्रत्याशी भीमराव अंबेडकर के पक्ष में वोट दिया है। मुख़्तार अंसारी के वोट करने पर हाई कोर्ट ने कल ही रोक लगा दी थी।

इससे पहले खबर आ रही थी बसपा के दो विधायक अनिल सिंह और वंदना सिंह भाजपा के पक्ष में मतदान करेंगे। लेकिन अनिल सिंह को छोड़ सभी बसपा विधायकों ने अपने प्रत्याशी के पक्ष में वोट दिया है। अब बसपा के पास 17, सपा के 10, कांग्रेस के 7 और रालोद के 1 वोट को मिलाकर कुल 35 हो रहे हैं। जो की जरुरी 37 से दो वोट कम हैं।

उत्तर प्रदेश में 10 सीटों के लिए वोटिंग हो रही है। इनमें से बीजेपी के 8 उम्मीदवारों की जीत तय मानी जा रही है, वहीं सपा की एक सीट पक्की बताई जा रही है, मगर दसवीं सीट पर भाजपा और सपा समर्थित बसपा उम्मीदवार में जबरदस्त टक्कर देखने को मिल रही है। एक राज्‍यसभा सीट पर जीत के लिए औसत 37 विधायकों के वोट की जरूरत है। इस लिहाज से देखा जाए तो यूपी की आठ सीटों पर वोट करने के बाद बीजेपी के पास 8 विधायकों के अतिरिक्त मत बच रहे हैं और उसे जीत के लिए सिर्फ नौ और मतों की जरूरत होगी।

बीजेपी समर्थित अनिल अग्रवाल के सामने सपा समर्थित बसपा के उम्मीदवार भीमराव अंबेडकर हैं। मगर बीजेपी जिस तरह से समीकरण को साधने में जुटी है, अगर वह सफल हो जाती है, तो फिर बसपा के लिए मुसीबत बन जाएगी। हालांकि, बसपा, सपा के समर्थन से अभी भी कॉन्फिडेंट नजर आ रही है। आज होने वाले राज्यसभा चुनाव में बीजेपी के आठ केंडिडेट में उत्तर प्रदेश से ही वित्त मंत्री अरुण जेटली भी शामिल हैं। वहीं सपा की ओर से जया बच्चन को टिकट दिया गया है और बसपा की ओर से भीम राव अंबेडकर को। लेकिन प्रतिष्ठा की लड़ाई तो भाजपा और बसपा-सपा में ही है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *