उत्तर प्रदेश

आम बजट : भाजपा ने बताया जनहितकारी, विपक्ष ने बताया दिशाहीन

Finance-Minister-Arun-Jaitlलखनऊ: वित्त मंत्री अरूण जेटली द्वारा सोमवार को पेश आम बजट को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उत्तर प्रदेश इकाई ने जनहितकारी बताया है। दूसरी तरफ बहुजन समाज पार्टी (बसपा), समाजवादी पार्टी (सपा), राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) और कांग्रेस ने इस बेहद निराशाजनक और दिशाहीन करार दिया है।
उत्तर प्रदेश विधानसभा में भाजपा के नेता सुरेश खन्ना ने बजट को जनहितकारी करार दिया। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने बजट में समाज के हर वर्ग की ओर ध्यान दिया है।
खन्ना ने कहा, “गांव, गरीब, किसान और मजदूरों को विशेष महत्व दिया गया है। आय बढ़ाने एवं जन स्वास्थ्य पर जोर दिया गया है। सभी ग्रामों में 2018 तक विद्युतीकरण की बात कही गई है।”
भाजपा नेता ने कहा कि एक करोड़ गरीब परिवारों के लिए रसोई गैस के लिए नई स्कीम लागू की जा रही है। देश में कीमतों को स्थिर रखने व बुनियादी ढांचे (सड़क व रेलवे सुविधाओं) को बढ़ाने, मनरेगा के धन में वृद्घि करके गांव में पांच लाख कुएं व तालाब बनाने व सिंचाई सुविधाओं में अभूतपूर्व वृद्घि करने पर बल दिया गया है।
कांग्रेस प्रवक्ता सुरेंद्र राजपूत ने आम बजट को बेहद निराशाजनक बताया है। उन्होंने कहा कि इस बजट में आम आदमी का बिल्कुल ध्यान नहीं रखा गया है। आयकर दर में किसी तरह की छूट नहीं दी गई है।
उन्होंने कहा कि किसान कर्ज के बोझ से दबा हुआ है, लेकिन उसके लिए भी सरकार ने इस बजट में किसी तरह की राहत नहीं दी है। किसानों के कर्जे माफ करने पर ध्यान दिया जाना चाहिए था। कुल मिलाकर यह एक दिशाहीन बजट है।
राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के प्रदेश अध्यक्ष मुन्ना सिंह चौहान ने बताया कि इस बजट में गांव, गरीब व किसान के लिए कुछ नही है। बजट में उद्योगपतियों का ख्याल रखा गया है। किसानों के लिए किसी तरह की राहत की बात नहीं की गई है।
चौहान ने कहा कि आम बजट के बाद यह साबित हो गया कि सरकार किसान विरोधी है और उसे किसानों के हितों से कोई लेना देना नहीं है।
समाजवादी पार्टी के नेता डॉ. सी.पी. राय ने कहा कि मोदी सरकार का यह बजट पूरी तरह से छलावा और दिशाहीन है। यह सरकार मनरेगा और पिछले सरकार की ओर से चलाई जा रही कुछ योजनाओं का पैसा बढ़ाकर वाहवाही लूटना चाहती है।
सपा नेता ने कहा कि कृषि विकास दर 4़1 प्रतिशत से घटकर आधा प्रतिशत तक पहुंच गई है और उसी आधे प्रतिशत विकास दर के बूते मोदी सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का सपना दिखा रही है।
राय ने आयकर छूट की सीमा नहीं बढ़ने पर भी सवाल उठाया।
बसपा के प्रदेश अध्यक्ष राम अचल राजभर ने कहा कि मोदी सरकार का यह आम बजट पूरी तरह से दिशाहीन है। इसमें किसानों के लिए कुछ नहीं दिया गया है। प्रधानमंत्री ने बरेली में अपनी रैली के दौरान किसानों को कई सपने दिखाए थे। उसके बाद यह उम्मीद थी कि सरकार आम बजट में किसानों का ख्याल रखेगी और किसान के कर्जमाफी की व्यवस्था की जायेगी, लेकिन मोदी सरकार ने किसानों को निराश किया है।

आम बजट के प्रमुख सुधार उपाय

आम बजट: मोदी ने बजट को ग्रामीण विकास पर केंद्रित बताया; यहाँ देखें मुख्य बातें

गोरखपुर की हर खबर यहाँ पढ़े http://gorakhpur.finalreport.in/ 

LIKE US:

fb
AD4-728X90.jpg-LAST

 
 
 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *