उत्तर प्रदेश

बाबरी मस्जिद के मुख्य मुद्दई हाशिम अंसारी का निधन

HAshim-Ansariफैज़ाबाद: बाबरी मस्जिद के मुख्य मुद्दई हाशिम अंसारी का बुधवार को निधन हो गया। वो 96 वर्ष के थे। बुधवार सुबह 05:30 पर उन्होंने अपने अयोध्या आवास पर उनहोंने अंतिम सांस ली। हाशिम काफी समय से श्वांस की बीमारी से परेशान थे।
वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। हाल ही में उनको लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल युनिवर्सिटी में एडमिट कराया गया था। 96 साल के अंसारी बाबरी मस्जिद मामले के सबसे बुजुर्ग पैरोकार थे। वे 1959 से इस मामले का मुकदमा अदालत में लड़ रहे थे। अंसारी का अयोध्या के महंतों से भी अच्छे रिश्ते थे। अभी ईद वाले दिन महंत ज्ञानदास ने उनके घर जाकर उन्हें ईद की मुबारकबाद भी दी थी।
हालांकि हाशिम अंसारी की आखिरी इच्छा पूरी नहीं हो सकी। उनकी ख्वाहिश थी कि उनके जिंदा रहते राम मंदिर और बाबरी मस्जिद विवाद सुलझ जाए। अंसारी ने बाबरी मस्जिद विवाद को लेकर राजनैतिक पार्टियों द्वारा की जा रही राजनीति पर भी रोष जताया था।
गौरतलब है कि अयोध्या में राम मंदिर और मस्जिद का विवाद कई सालों से चल रहा है। इसको लेकर पूरे देश में आंदोलन और लड़ाई भी हुए। लोगों का कहना है कि इस मामले में राजनीतिक दलों ने खूब रोटियां सेंकी लेकिन विवाद का रास्ता नहीं निकाला जा सका।अब सरकारों की ओर से मामला कोर्ट में होने का हवाला देकर पल्ला झाड़ लिया जाता है।
भले ही हाशिम राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में मुस्लिम समुदाय के सबसे बड़े पैरोकार हों लेकिन अयोध्या के हिन्दुओं में भी हाशिम अंसारी के प्रति उतना ही सम्मान है जितना मुसलमानों में।
96 वर्षीय मोहम्मद हाशिम अंसारी अयोध्या के काजियाने मोहल्ले में रहते हैं। उनके घर के बाहर एक तख्ती लगी है जिस पर उनके नाम के साथ ही ‘याचिकाकर्ता बाबरी मस्जिद’ लिखा है। पिछले साठ सालों से यही हाशिम अंसारी की मुख्य पहचान भी है।
बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद में वे ही सबसे पुराने और सबसे उम्रदराज याचिकाकर्ता हैं। राम जन्मभूमि का मुकदमा 1949 में इन्होंने खुद दायर किया था । इनके परिवार में एक लड़का और 1 बेटी है । लड़का इक़बाल ऑटो चलाकर घर का खर्चा चलता था ।
रामजन्मभूमि/बाबरी आंदोलन में इनकी अहम भूमिका रही है । समय -समय समझौते को लेकर ये काफी अहम भूमिका निभा रहे थे । अपनी ज़िंदगी में ही राम जन्मभूमि /बाबरी मस्जिद का चाहते थे हल।

fb

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *