उत्तर प्रदेश

नाराज ओमप्रकाश राजभर को अमित शाह ने मिलने के लिए दिल्ली बुलाया, दोपहर 2 बजे होगी मुलाकात

नाराज ओमप्रकाश राजभर को अमित शाह ने मिलने के लिए दिल्ली बुलाया, दोपहर 2 बजे होगी मुलाकात

लखनऊ: सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सूबे की योगी आदित्यनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर आज देश की राजधानी दिल्ली में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात करेंगे। जानकारी के अनुसार योगी सरकार से नाराज चल रहे ओमप्रकाश राजभर की अमित शाह से आज दोपहर 2 बजे मुलाकात होगी। बता दें कि योगी सरकार के एक साल पुरे होने पर राजभर ने अपनी ही सरकार के 10 में से 3 नम्बर दिया था। उन्होंने हमला बोलते हुए कहा था कि योगी सरकार जमीन पर नही, कागजो पर ही विकास कर रही है। इससे पहले राजभर ने सोमवार को कहा था कि यदि उनसे अमित शाह ने बात नहीं की तो उनकी पार्टी राज्‍यसभा चुनाव का बहिष्‍कार करेगी।

बताया जा रहा है कि बीजेपी नेता और मंत्री सुरेश खन्ना को राजभर को मनाने का जिम्मा सौंपा गया है। हालांकि यह भी कहा जा रहा है कि राजभर इस मामले में अमित शाह के अलावा किसी और से बात करने को तैयार नहीं है। बीजेपी नेताओं पर पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि 325 सीटों के नशे में ये लोग पागल होकर घूम रहे हैं।

राजभर ने कहा, ‘हमसे न तो बीजेपी ने सम्पर्क किया है और न ही विपक्ष ने। इसलिए हमने विकल्प खुले रखे हैं। हम बीजेपी नहीं है, बल्कि अलग पार्टी हैं। गठबंधन धर्म के तहत बीजेपी ने न उम्मीदवार तय करते वक्त हमसे पूछा और न ही नामांकन के लिए बुलाया। ये लोग कहते कुछ और हैं…करते कुछ और हैं। संगठन से लेकर सरकार तक के किसी कार्यक्रम में हमें पूछा नहीं जाता, न ही राय ली जाती है। गठबंधन में हम क्या केवल हाजिरी देने के लिए हैं? इसलिए हम आंख मूंद कर हर फैसले के साथ नहीं खड़े हो सकते।’

सरकार में कथित उपेक्षा पर उन्होंने कहा, ‘हमलोग सरकार और एनडीए का हिस्सा हैं, लेकिन बीजेपी गठबंधन धर्म का पालन नहीं कर रही है। मैं अपनी बात सबके सामने रख रहा हूं, लेकिन ये लोग 325 सीटों के नशे में पागल होकर घूम रहे हैं। सरकार (यूपी) सरकार का फोकस केवल मंदिरों पर है, गरीबों के कल्याण पर नहीं। हम कैसे भूल जाएं कि विधानसभा चुनाव में गरीबों ने हमें वोट दिए थे। आजकल बात तो खूब हो रही है, लेकिन जमीनी स्तर पर इसका कोई असर नहीं दिखता।’

राजभर के बगावती तेवर पर यूपी के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा था, ‘राजभर जी मंत्री हैं और हमारे सहयोगी भी। यदि उन्हें कोई समस्या है तो वे सार्वजनिक रूप से बोलने के बजाय कैबिनेट के सामने रखें। आप सरकार का हिस्सा होकर इस तरह का व्यवहार नहीं कर सकते हैं। दोनों साथ-साथ नहीं चलेगा।’

गौरतलब है कि यूपी में नौवें उम्मीदवार के लिए बीजेपी के पास सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के चार विधायकों समेत 28 वोट हैं। जीतने के लिए 37 वोट चाहिए। अभी पार्टी को 9 वोटों की व्यवस्था करनी है। राजभर अगर साथ नहीं देते तो बीजेपी के पास 24 विधायक ही रह जाएंगे। इससे बीएसपी उम्मीदवार आसानी से जीत जाएगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *