उत्तर प्रदेश

ओपी सिंह के नाम पर सस्पेंस खत्म, कल से संभालेंगे डीजीपी का चार्ज

लखनऊ: प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा शुक्रवार रात हामी भरने के बाद ओपी सिंह के नाम पर बरक़रार सस्पेंस ख़त्म हो गया है। जानकारी के अनुसार ओपी सिंह कल से प्रदेश के डीजीपी का चार्ज संभालेंगे।

गौरतलब है की मीडिया रिपोर्ट रही थी कि 1983 बैच के आईपीएस ओम प्रकाश सिंह का नाम पीएमओ ने क्लियर नहीं किया इसलिए वो उत्तर प्रदेश के डीजीपी नहीं बनेंगे। अब इस बात से सस्पेंस खत्म हो गया है और श्री सिंह ही यूपी के डीजीपी होंगे। ओपी सिंह का कार्यकाल 30 जनवरी 2020 तक है।

सीएम योगी की खास पसंद ओपी सिंह को प्रदेश सरकार ने 31 दिसंबर 2017 को प्रदेश के पुलिस विभाग का मुखिया घोषित किया था। ओपी सिंह को 3 जनवरी 2018 को अपना पद संभालना था, लेकिन उस दिन के बाद से ही उन्‍होंने अपने नए पद को नहीं संभाला।

वर्तमान में ओपी सिंह केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल में महानिदेशक के पद पर तैनात हैं। सूबे के पुलिस महानिदेशक सुलखान सिंह के सेवानिवृत्त होने के बाद उन्हें इस पद की जिम्मेदारी सौंपी जानी थी।

ओम प्रकाश सिंह 1983 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। पुलिस महकमे और जनता के बीच इस IPS अफसर की पहचान एक नरम अफसर के रूप में है। वे जनता की सेवाभाव के लिए जाने जाते हैं। पुलिस महकमे के लोग बताते हैं कि एसपी और एसएसपी रहते हुए भी ओपी सिंह की प्राथमिकता क्रिमिनल को सजा दिलाने से ज्यादा उसे दोबारा से अच्छे रास्ते पर लाने की रहती थी। ओपी सिंह को उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के करीबियों में माना जाता है।

ओपी सिंह मूल रूप से बिहार के गया जिले के रहने वाले हैं। सेंट जेवियर्स कॉलेज, नेशनल डिफेंस कॉलेज और दिल्ली विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त ओमप्रकाश सिंह आपदा प्रबंधन में एमबीए के साथ एम.फिल डिग्रीधारी हैं। सिंह को उत्कृष्ट सेवा के लिये गैलेंट्री अवार्ड समेत कई पदक भी मिल चुके हैं।

 

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *