गोला क्षेत्र में भजन, कीर्तन के माध्यम से हो रहा है शराब की दुकानों को खोलने का विरोध

गोरखपुर: जनपद के दक्षिणांचल स्थित गोला थानाक्षेत्र और स्थानीय टाउन एरिया के वार्ड संख्या-10 नदी रोड पर घनी आबादी व तीन-तीन विद्यालयों के पास मदिरालय खुल जाने से नागरिकों में आक्रोश व्याप्त है।स्थानीय नागरिक शराब की दुकान को हटाने को देकर आन्दोलित हो चुके हैं। जिसे लेकर शराब की दुकान खोलने की संस्तुति जांच के दौरान ही अधिकारियों से नागरिकों की तीखी नोकझोक भी हुई थी ।इस मामले में नागरिकों के आक्रोश को देखते हुए स्थानीय गोला एसडीएम ने नागरिकों से मोहलत मांगा था।

बता दें कि गोला थानाक्षेत्र और स्थानीय टाउन एरिया के वार्ड संख्या-10 नदी रोड पर घनी आबादी व तीन-तीन विद्यालयों के पास शराब की दुकान खुलने से स्थानीय नागरिक शराब की दुकान को हटाने को देकर आन्दोलन पर उतारू हो गए और धरने पर बैठ गए। जिसे देख एसडीएम गोला ने कुछ दिन की मोहलत मांगी थी।धरने से वापस लौटे नागरिकों ने वहां स्थित देशी शराब व बीयर की दुकान में ताला बंद कर दिया।

इसके अगले दिन 15 अप्रैल शनिवार की सुबह शराब के दुकान मालिकों ने अपने गुर्गो के साथ पहुंचकर दुकान पर बंद ताले को तोड़ दिया। जिसके बाद मुहल्ले की महिला, पुरूष व बच्चे उग्र होकर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। नागरिको का कहना था कि किसी भी कीमत पर घनी आबादी व विद्यालय के बगल में शराब नही बिकने दी जायेगी ।

उसी दिन मुहल्ले की महिलाओं ने शराब दुकान विरोध आन्दोलन की कमान सम्भालते हुये शराब की दुकान के सामने ही कीर्तन, भजन व शिवचर्चा शुरू कर दिया तथा शराब की दुकान पर जाने वाले रास्ते को ईंट आदि रखकर अवरूद्ध कर दिया है। स्थानीय महिलाओं का कहना है कि प्रशासन जब तक स्थायी रूप से यहा खुले देशी शराब व बीयर की दुकान को नही हटायेगा। तब तक हम लोग अनवरत कीर्तन, भजन व शिवचर्चा कार्यक्रम चलाकर शराब की दुकान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे।

इसी दौरान शराब की दुकान मालिक ने नागरिकों के विरोध प्रदर्शन का समर्थन करने पर नगर पंचायत अध्यक्ष गिरधारी लाल स्वर्णकार के दूकान पर चढकर जानमाल की धमकी दे दिया । चेयरमैन ने पुलिस से घटना की शिकायत किया तो गोला पुलिस ने धमकी देने वाले मनबढो के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया है।